Monday, April 15, 2013

उपाय --Totkay:रोग निवारण हेतु:स्मरण शक्ति बढाने हेतु:बच्चो के स्वस्थ हेतु:धन लाभ हेतु:संतान प्राप्ति हेतु:

उपाय --Totkay:रोग निवारण हेतु:स्मरण शक्ति  बढाने  हेतु:बच्चो  के स्वस्थ  हेतु:धन लाभ  हेतु:संतान  प्राप्ति हेतु:

१) रोग निवारण हेतु-1) कृष्ण पक्ष में चमकीला काला कपडा,उड़द तथा  एक रुपये का सिक्का दान करे|             
 २)पारिवारिक  कलह  हो तो - सभी  दरवाजों  पर गंगाजल  छिडके  ध्यान रखे  की छीटे  स्वयं पर  ना पड़े |
 ३) स्मरण शक्ति  बढाने  हेतु -गुरूवार  के दिन इमली  के पत्ते पुस्तकों में  रखे  |. 
 ४) शीघ्र विवाह हेतु -शुक्ल पक्ष के प्रथम मंगलवार से पाँच रुपये  की जलेबी २१  मंगलवार को  हनुमान मंदिर में  हनुमान जी  के सम्मुख  रख कर जाए. (पुरुष)  |
 ५) बच्चो  के स्वस्थ  हेतु -१) गोमती चक्र का पेंडल बच्चे के गले में पहनाये .|
२) प्रत्येक  मंगलवार  कच्चा  दूध  ७  बार  उतारा कर  कुत्ते  को  पिला दे  |. 
 ६) बिस्तर पर  पेशाब -१) ऊट के बाल बच्चे की दाहिनी  जांघ पर धागा बनाकर बांधे |
२)  शमशान  की मिट्टी चान्दी  के ताबीज में बच्चे के हाथ से  पीपल के नीचे  दबवा दे | 
 ७) धन लाभ  हेतु -१) एक शीशी में शहद  भरकर ११ दाने  सफ़ेद  गूंजा डाल  कर श्री सूक्त  के ११  पाठ पढ़े,खीली  हुई खील तथा कमलगट्टे  से 16 आहुति हवन करे शीशी  को  व्यापर  स्थल  रख दे  तथा  श्रीसूक्त  का पाठ  नित्य करे.|
२) शुक्रवार  के दिन इत्र  चौराहे  के मध्य में छोड़  कर आये |
३) इमली  की टहनी  गल्ले में  रखे |. 
४) जलकुम्भी  गुरूवार को लाकर  पीले  कपडे में  बांधकर  घर के  ईशान कोण में लटका दे  सप्ताह  बाद  बदलते  रहे  ऐसा ७  गुरूवार  करे |. 
 ८) संतान  प्राप्ति हेतु -पूर्वा फाल्गुनी  नक्षत्र में बरगद के पेड़ की  जड़  धागे  से भुजा  पर  पहने  |. 
  ९) सुख समृधि हेतु -पुष्य  नक्षत्र में सफ़ेद  आक  की जड़  दाई  भुजा  में  बांधे | 
  १०) अचल  सम्पति हेतु --पुरे वर्ष हर शुक्रवार को  भूखे व्यक्ति को भोजन  व हर रविवार को  गाय  को  गुड  खिलाये |. 
  ११) योग्यतानुसार  काम ना  मिलने पर सोमवार  फिटकरी  तवे पर फुलाकर  7 बार सिर  से उतारा  कर गंदे  पानी में  बहाए
२) एक बेदाग़ नींबू चार बराबर टुकडो में कर चौराहे  की चारो  दिशा में  फ़ेंक आये तथा  पीछे  मुड कर ना देखे |
 १२) अनिच्छा हेतु -1) भैरव बाबा को रविवार  के दिन शराब, दही बड़े, इमरती चढ़ाये खाली बोतल  वापस लेकर  ७  बार  उतारा कर  पीपल के पेड़ के  नीचे  रख आये | 
२)गुरूवार  के दिन केले  की जड़  पीले  कपडे में बांधकर  १  माला ॐ  ग्राम ग्रीम  ग्रो सा  गुरुवे  नमः की  जपे | ३) दो  लोंग एक कपूर का टुकड़ा ३ बार गायेत्री  मंत्र पढ़ अभी मंत्रित करे फिर जला दे (पुरबमुखी होकर) गायेत्री  मंत्र करते  रहे फिर  भस्म  दिन में दो बार जीभ पर लगाये | . 
 १३) धनप्राप्ति हेतु -श्यामा तुलसी के आसपास  की घास  किसी  गुरूवार  के दिन लेकर  पीले  कपडे में बांध कर  लक्ष्मी का ध्यान  कर धूप दीप  कर तिजोरी  अथवा  व्यापार  स्थल में  रखे  |
 १४) विरोधी  की शांति के लिये-रविवार,मंगलवार सोकर  उठते  ही 3 बार  विरोधी  की कोसे फिर सफ़ेद  काग़ज़ पर  काली  श्याही  से विरोधी  का नाम  लिखकर  उस काग़ज़ को काले धागे  में लपेटकर  रखले  फिर  शाम को उस काग़ज़ को  पीपल की जड़  के नीचे  दबा  दे |.
 १५)नज़र दोष  -१) फिटकरी को २१  बार  उतारा  कर चूल्हे  में  जलादे  (तीन  बार  सुबह दोपहर शाम) 
१६) व्यवसाय  वृद्धि हेतु -१) रविवार  दोपहर  को  ५ कागज़ी  नींबू काटकर  एक मुठ्ठी काली  मिर्च,१ मुठ्ठी  पीली सरसों  व्यवसाय  स्थल पर  रख दे  अगले  दिन दूकान खोलते समय  सभी  वस्तुए वीराने में दबा दे  |
२) गल्ले के नीचे काली गूंजा रखे | 
३) शुक्ल पक्ष से ११  गुरूवार  व्यापार स्थल  के मुख्य  द्वार के एक कोने को  गंगाजल  से धो ले   उसमे  स्वस्तिक बनाकर  उसमे  गुड  चने  की दाल रखे  इसे  बार  बार  देखे (खराब होने पर  जलप्रवाह  करे )११  गुरूवार  के बाद गणेश जी को  सिंदूर लगाकर  पाँच लड्डू अर्पित कर कहे  "जय गणेश काटो  कलेश ."| 
 १७) सुख शांति हेतु -१) अशोक के पत्ते  मंदिर में  रख पूजा करे सूखने पर नए  पत्ते  रखे  पुराने  पत्ते  पीपल के नीचे  रख आये.| 
२) रात को दूध सिरहाने  रख सुबह घर पर छिडकाव  करे | 
 १८) व्यापार में घाटा होने पर  बर बुधवार को ११  कौड़ीया,एक जोड़ा लौंग,छोटी इलायची,व्यापार स्थल की मिट्टी लेकर  कौड़िया  जलाकर  राख पान के पत्ते पर  रखकर  ताम्बे  का छेद  किया  हुआ सिक्का रखकर  जल प्रवाह करे उस दिन  उपवास  रखे  तथा   9 वर्ष से  छोटी कन्याओ को भोजन  कराये |.
xzg ,oa muls lacaf/kr jksx ,oa fpfdRlk %
lw;Z % ;fn O;fDr dh dqaMyh esa lw;Z v'kqHk fLFkfr esa gks] rks mls thou esa vka[kksa ds jksx] gfì;ksa ls lacaf/kr chekfj;ka] 'kjhj esa tyu gksuk] fiRr fodkj] dkuksa ds jksx] Vk;QkbM] g`n; jksx] czsu gsejst vkfn jksx gks ldrs gSaA
fpfdRlk % lw;Z ls lacaf/kr chekfj;ksa esa vkS"kf/k;ksa ds lkFk&lkFk lw;Z ds cht ea=& ma ?k`f.k% lw;kZ; ue% dk lkr gtkj ti vuq"Bku djok,a rFkk yky jax ds Qwy] dslj] eSufly] byk;ph] [kl] eqygBh vkfn feyk dj ty esa Mky dj Luku djsaA vkfnR; g`n; Lrks= dk ikB djok,a vkSj lw;Z ls lacaf/kr oLrqvksa&ekf.kD;] xsgwa] xk;] xqM+] yky diM+s] lksuk] rkack] yky panu] yky dey vkfn dk nku djsaA lw;Z jRu ekf.kD; /kkj.k djsaA
panz % panzek dh v'kqHkrk ds dkj.k O;fDr dks jDr fodkj] [kwu dh deh] jDrpki] tyksnj] ekufld vfLFkjrk] ikxyiu] efrHkze] Toj ,oa dQ fodkj vkfn gksrs gSaA
fpfdRlk % panzek ds cht ea=& vksa Jka Jha JkSa l% pUnzk; ue% ds 11 gtkj ti vuq"Bku djok,aA ty esa iap xO;] lQsn panu] lQsn Qwy] f[kjuh dh tM+] 'ka[k vkfn feyk dj jksxh dks Luku djk,aA panzek dk jRu eksrh /kkj.k djsaA panz ;a= Hkh /kkj.k djsaA panzek ls lacaf/kr oLrq,a] tSls oa'kik=] pkoy] diwj] eksrh] lQsn oL=] lQsn cSy] pkanh] ?kh] felzh vkfn lkseokj ds fnu la/;k ds le; nku djsaA
eaxy % ftl O;fDr ds tUekax esa eaxy v'kqHk fLFkfr esa gks] mls fiRr fodkj] xqIr jksx] flj nnZ] tyuk] fxjuk] lw[kk jksx] jDr fodkj] isV laca/kh chekfj;ka] Vk;QkbM] [kqtyh] coklhj] gìh dk VwVuk vkfn jksx gks ldrs gSaA
fpfdRlk % bu jksxksa esa eaxy ds cht ea=& vksa dzka dzha dzkSa l% HkkSek; ue% ds 1000 ti vuq"Bku djok,a vkSj eaxy ;a= rFkk ewaxk /kkj.k djok,a vkSj ekSyJh] tVkekalh] eky dkaxuh] csy dh Nky] yky panu] f[kjSVh] ghax] flaxjQ vkfn ty esa Mky dj jksxh dks Luku djk,a vkSj eaxy ls lacaf/kr oLrq,a] tSls ewaxk] xsgwa] elwj] yky cSy] xqM+] lksuk] yky diM+k] yky Qwy] rFkk rkack vkfn dk nku djsaA
cq/k % cq/k dh v'kqHk fLFkfr O;fDr dks fuEu fyf[kr jksx ns ldrh gS% Hkw[k dh deh] laxzg.kh] peZ jksx] dks<+] ukd ls lacaf/kr jksx] pspd] ok.kh ls lacaf/kr jksx] ukd ,oa isV ls lacaf/kr jksx] ckSf)d vfLFkjrk] ihfy;k] okr] fiRr] dQ ls mRiUu jksxA
fpfdRlk % cq/k ds cht ea=& vksavkseczka czha czkSa l% cq/kk; ue% dk 1000 ti vuq"Bku djok,a rFkk xkse;] pkoy] 'kgn] tk;Qy] ihijkewy] xksjkspu ,oa fo/kkjkewy vkfn dks ty esa Mky dj jksxh dks Luku djok,aA iUuk ,oa cq/k ;a= /kkj.k djok,aA cq/k ls lacaf/kr oLrq,a] tSls ewax] gjk oL=] dkalk] dLrwjh] iap jRu] diwj vkfn dk nku djsaA
xq# % ;fn dqaMyh esa xq# v'kqHk fLFkfr esa gks] rks O;fDr dks ftxj] ;k isV ls lacaf/kr chekfj;ka] detksjh] eksVkik] fQyikao] eq[k ds jksx] dej nnZ] xfB;k ok;] lwtu] iSjksa esa ihM+k vkfn jksx gks ldrs gSaA
fpfdRlk % xq# ds cht ea=& vksa xzka xzha xzkSa l% xq#os ue% dk 19 gtkj ti vuq"Bku djok,aA xq# ls lacaf/kr vkS"kf/k;ka] tSls lQsn ljlksa] xwyj] eqySBh] pesyh ds Qwy] 'kgn] ihiy dh u;ks dksiyksa ,oa iRrksa dks ty esa Mky dj ml ty ls jksxh dks Luku djok,aA xq# ;a= rFkk xq# jRu iq[kjkt /kkj.k djok,aA
'kqdz % 'kqdz dh v'kqHk fLFkfr O;fDr dks us= jksx] ew= jksx] xqIr jksx] Luk;qfod nqcZyrk] e/kqesg] dkeka/kRo] 'kh?kz iru] LoIu nks"k] /kkrq {k;] dQ vkSj ok;q fodkj] dCt] us= jksx vkfn nsrh gSA
fpfdRlk % 'kqdz ds cht ea=& vksa nzka nzha nzkSa l% 'kqdzk; ue% dk 16000 ti vuq"Bku djok,a rFkk 'kqdz ls lacaf/kr oLrq,a] 'kqdz ;a= ,oa 'kqdz jRu ghjk /kkj.k djsaA blds lkFk ty esa ewyh ds cht] byk;ph] dslj] tk;Qy] ihijkewy ,oa eSufly vkfn feyk dj Luku djok,aA NhaV dk diM+k] lQsn ?kksM+k] cNM+k;qDr xk;] ghjk] pkanh] lksuk] pkoy] lqxaf/kr inkFkZ ,oa ?kh vkfn dk nku djsaA
'kfu % 'kfu dh v'kqHk fLFkfr esa xys ds jksx] pksV] eksp] isV dh chekfj;ka] vip] xSl ls lacaf/kr chekfj;ka] [kqtyh] jDr fodkj] ikxyiu] xatkiu] ydok] g`n; jksx vkfn gks ldrs gSA
fpfdRlk % 'kfu ds cht ea=& vksa izka izha izkSa l% 'kfu'pjk; ue% dk 23000 ti vuq"Bku djok,aA 'kfu ;a= rFkk 'kfu jRu uhye /kkj.k dj ykHk fy;k tk ldrk gSA ty esa lkSaQ] f[kjSBh] ykscku] yks/kk] [kl] dkys fry] 'krqdqlqe] /keuh] xksan vkfn feyk dj Luku djus ls Hkh jksx esa ykHk gksrk gSA mM+n] fry] rsy] dqYFkh] HkSal] yksgk] dkyh xk;] dkyk diM+k ,oa uhye dk nku djsaA
jkgq % jkgq&dsrq dks dky iq#"k dk nq[k ekuk x;k gSA ;fn dqaMyh esa jkgq dh v'kqHk fLFkfr gks] rks O;fDr dks tkuojksa ,oa tgjhys dhM+s&edksM+ksa ls gkfu gksrh gSA jkgq isV laca/kh chekfj;ka nsrk gSA blds vfrfjDr gkFk&iSjksa esa lwtu] coklhj] xaMekyk] dq"B jksx] liZ na'k vkfn jkgq dh v'kqHk fLFkfr ds dkj.k gksrs gSaA fexhZ] xfB;k] dku nnZ] g`n; dh detksjh] lfUuikr vkfn Hkh jkgq ds fgLls esa vkrs gSaA
fpfdRlk % jkgq ds cht ea=& vksa Hkzka Hkzha HkzkSa l% jkgos ue% dk 18000 ti vuq"Bku djok,aA xksesn ,oa jkgq ;a= /kkj.k djsaA jkgq ls lacaf/kr oLrq,a] tSls xsgwa] jRu] ?kksM+k] uhyk diM+k] dacy] fry] rsy] ykSg] vHkzd vkfn dk nku djsaA ty esa dLrwjh] xtnar] ykscku ,oa eqjFkjk feyk dj Luku djok,aA
dsrq % dsrq dh v'kqHk fLFkfr O;fDr dks peZ jksx] [kkt&[kqtyh] 'osr dq"B] elwfjdk] tyksnj] [kkalh&lnhZ& tq[kke] xqIr jksx] xfB;k] dSalj] iFkjh] okr&fiRr fodkj] Luk;qfod nqcZyrk] efgykvksa esa xHkZikr gksuk vkfn jksx nsrh gSA
fpfdRlk % dsrq ds cht ea=& vksa L=ka L=ha L=kSa l% dsros ue% dk 17000 ti vuq"Bku djok,aA yglqfu;k ,oa dsrq ;a= /kkj.k djsaA ikuh esa yky panu vkSj cdjh dk ew= feyk dj Luku djus ls Hkh ykHk gksrk gSA dsrq dh oLrq,a] tSls oSMw;Z] fry] dacy] dLrwjh] 'kL=] dkyk diM+k] rsy] dkys Qwy ,oa cdjh vkfn dk nku djsaA
 





No comments: