Friday, November 14, 2014

अंक ज्योतिष:मूलांक व भाग्यांक का नामांक से मेल करके लाभ कैसे प्राप्त करे:Numerology:How to get benefits:

अंक ज्योतिष:मूलांक व भाग्यांक का नामांक से मेल करके लाभ कैसे प्राप्त करे:
मूलांक -  जन्म तारीख के कुल योग को मूलांक कहते है ।
भाग्यांक - DD : MM : YYYY के कुल योग को भाग्यांक कहते है।

 मूलांक और भाग्यांक:अनुसार काम करने से जीवन में काम पुरे होने  मै  बाधाऐ  नही  आती  है ।
मूलांक व भाग्यांक का नामांक का मेल न करना।
नामांक का ग्रह उसके मूलांक, भाग्यांक का शत्रु नही होना चाहिए ।
नाम के आगे अथवा पीछे कुछ अक्षरों को जोड़ या   घटाकर नामांक का  मेल करते हैं
नामांक :प्रत्येक अक्षर का एक अंक होता है अत: नाम लिखने के बाद सभी अक्षरों के अंकों को जोड़ा जाता है जिससे नामांक ज्ञात होता है।
 मूलांक व भाग्यांक का नामांक से मेल कैसे करे:
मूलांक- किसी भी जातक की जन्मतिथि का योग मूलांक होता है जैसे 4 ,22,31,,  तारीखों को जन्मे जातकों का मूलांक 4कहलाएगा। भाग्यांक- जन्म की तिथि, माह व वर्ष का योग भाग्यांक होता है जैसे 31 अक्टूबर माह 1949 का भाग्यांक  3+ 1+1+0 +1+9+4+9 =28=10 =1होगा। उदारण- किसी जातक का नाम  HVSI  LAL  CHOUREY व उसकी जन्मतिथि 31.10.1949 है। जातक का मूलांक = 31= 3+1 = 4है। जातक का भाग्यांक = 31.10.1949 3+ 1+1+0 +1+9+4+9 =28=10 =1 जातक का नामांक- 
 HVSI  LAL  CHOUREY 56313133576251=51=6  चूंकि नामांक (6) 41का मित्र अंक नहीं है इसलिए जातक को इस नाम में कुछ फेर बदल करना पड़ेगा (मूलांक व भाग्यांक बदल नहीं सकते)। यदि जातक अपना नाम केवल
 HOUSI  LAL CHOUREY 576313133576251=58=5+8+=13=1+3=4 कर ले जिससे नामांक  =4 हो जाएगा तो उसे लाभ होने लगेगा कारण अंक 4 ,मूलांक व भाग्यांक दोनों का मित्र है जिससे उसे हर काम में  लाभ होने लगेगा।
  नाम की सारणी (नामांक) बनाने की विधि 
A B C D E F G H I J K L M
1  2  3 4  5 8 3   5 1 1 2 3 4 
N O P Q R S T U V W X Y Z 
5 78 1 2 3 4 6 6 6 5 1 2 

 वर्णाक्षर             स्वामी अंक         वर्णाक्षर           स्वामी अंक
 A,I,J,Q,Y                1             E,H,N,X              5
 B,K,R                     2             U,V,W                 6
 C,G,L,S                  3             O,Z                     7
 D,M,T                    4              F,P                     8
                                                                          9
नौ अंक सबसे श्रेष्ठ है तथा इसे किसी भी वर्णाक्षर का स्वामित्व नहीं मिला। प्रस्तुत अंक तालिका कीरो के सिद्धान्त के अनुसार प्रस्तुत है।

   अंको के मित्र-शत्रु
अंकों के प्रभाव की जानकारी हेतु अंक और ग्रह की निम्नांकित तालिका प्रस्तुत की जाती है।
  अंक   स्वामी ग्रह        मित्रांक           समांक            शत्रु अंक
   १        सूर्य             ४-८            २,३,७,९            ५,६
   २      चन्द्रमा           ७-९            १,३,४,६            ५,८
   ३        गुरु             ६-९             १,२,५,७            ४,८
   ४     हर्षल-राहु         १-८             २,६,७,९          ३,५
   ५       बुध             ३-९             १,६,७,८             २,४
   ६       शुक्र             ३-९             २,४,५,७            १,८
   ७    नेप्चून-केतु      २-६             ३,४,५,८         १,९
   ८      शनि             १-४             २,५,७,९             ३,६
   ९      मंगल            ३-६             २,४,५,८             १,७


   ज्योतिष,वास्तु ,एक्यूप्रेशर पॉइंट्स ,हेल्थ , इन सबकी डेली टिप्स के लिए----लिंक को क्लिक  करें : 
      Shree Siddhi Vinayak Jyotish avm Vaastu Paramarsh kendra

1 comment:

Blogger said...

Get your custom personal numerology reading.
Start the most interesting journey of your life and learn your true purpose.