Friday, November 14, 2014

अंक ज्योतिष:मूलांक व भाग्यांक का नामांक से मेल करके लाभ कैसे प्राप्त करे:Numerology:How to get benefits:

अंक ज्योतिष:मूलांक व भाग्यांक का नामांक से मेल करके लाभ कैसे प्राप्त करे:
मूलांक -  जन्म तारीख के कुल योग को मूलांक कहते है ।
भाग्यांक - DD : MM : YYYY के कुल योग को भाग्यांक कहते है।

 मूलांक और भाग्यांक:अनुसार काम करने से जीवन में काम पुरे होने  मै  बाधाऐ  नही  आती  है ।
मूलांक व भाग्यांक का नामांक का मेल न करना।
नामांक का ग्रह उसके मूलांक, भाग्यांक का शत्रु नही होना चाहिए ।
नाम के आगे अथवा पीछे कुछ अक्षरों को जोड़ या   घटाकर नामांक का  मेल करते हैं
नामांक :प्रत्येक अक्षर का एक अंक होता है अत: नाम लिखने के बाद सभी अक्षरों के अंकों को जोड़ा जाता है जिससे नामांक ज्ञात होता है।
 मूलांक व भाग्यांक का नामांक से मेल कैसे करे:
मूलांक- किसी भी जातक की जन्मतिथि का योग मूलांक होता है जैसे 4 ,22,31,,  तारीखों को जन्मे जातकों का मूलांक 4कहलाएगा। भाग्यांक- जन्म की तिथि, माह व वर्ष का योग भाग्यांक होता है जैसे 31 अक्टूबर माह 1949 का भाग्यांक  3+ 1+1+0 +1+9+4+9 =28=10 =1होगा। उदारण- किसी जातक का नाम  HVSI  LAL  CHOUREY व उसकी जन्मतिथि 31.10.1949 है। जातक का मूलांक = 31= 3+1 = 4है। जातक का भाग्यांक = 31.10.1949 3+ 1+1+0 +1+9+4+9 =28=10 =1 जातक का नामांक- 
 HVSI  LAL  CHOUREY 56313133576251=51=6  चूंकि नामांक (6) 41का मित्र अंक नहीं है इसलिए जातक को इस नाम में कुछ फेर बदल करना पड़ेगा (मूलांक व भाग्यांक बदल नहीं सकते)। यदि जातक अपना नाम केवल
 HOUSI  LAL CHOUREY 576313133576251=58=5+8+=13=1+3=4 कर ले जिससे नामांक  =4 हो जाएगा तो उसे लाभ होने लगेगा कारण अंक 4 ,मूलांक व भाग्यांक दोनों का मित्र है जिससे उसे हर काम में  लाभ होने लगेगा।
  नाम की सारणी (नामांक) बनाने की विधि 
A B C D E F G H I J K L M
1  2  3 4  5 8 3   5 1 1 2 3 4 
N O P Q R S T U V W X Y Z 
5 78 1 2 3 4 6 6 6 5 1 2 

 वर्णाक्षर             स्वामी अंक         वर्णाक्षर           स्वामी अंक
 A,I,J,Q,Y                1             E,H,N,X              5
 B,K,R                     2             U,V,W                 6
 C,G,L,S                  3             O,Z                     7
 D,M,T                    4              F,P                     8
                                                                          9
नौ अंक सबसे श्रेष्ठ है तथा इसे किसी भी वर्णाक्षर का स्वामित्व नहीं मिला। प्रस्तुत अंक तालिका कीरो के सिद्धान्त के अनुसार प्रस्तुत है।

   अंको के मित्र-शत्रु
अंकों के प्रभाव की जानकारी हेतु अंक और ग्रह की निम्नांकित तालिका प्रस्तुत की जाती है।
  अंक   स्वामी ग्रह        मित्रांक           समांक            शत्रु अंक
   १        सूर्य             ४-८            २,३,७,९            ५,६
   २      चन्द्रमा           ७-९            १,३,४,६            ५,८
   ३        गुरु             ६-९             १,२,५,७            ४,८
   ४     हर्षल-राहु         १-८             २,६,७,९          ३,५
   ५       बुध             ३-९             १,६,७,८             २,४
   ६       शुक्र             ३-९             २,४,५,७            १,८
   ७    नेप्चून-केतु      २-६             ३,४,५,८         १,९
   ८      शनि             १-४             २,५,७,९             ३,६
   ९      मंगल            ३-६             २,४,५,८             १,७


   ज्योतिष,वास्तु ,एक्यूप्रेशर पॉइंट्स ,हेल्थ , इन सबकी डेली टिप्स के लिए----लिंक को क्लिक  करें : 
      Shree Siddhi Vinayak Jyotish avm Vaastu Paramarsh kendra

3 comments:

Blogger said...

Get your custom personal numerology reading.
Start the most interesting journey of your life and learn your true purpose.

Unknown said...

Pandit ji mera naam kya hona chahiye apke hisab se.abhi mein vishal deepak gajjar lagata hu aur mera date of birth 22/10/1989 hain toh plz mujhe kuch bata dijiye

Unknown said...

Mere bacche ka DOB 30/01/2013 hai.samay Shaam 6:32 PM ka hai.Mere bacche Mulank,bhagyank ke anusaar uska namank kya hona chahiye aur uska Naam kis akshar se shuru karna chahiye ?