Monday, September 15, 2014

आहार से ग्रह की पीड़ा और दोष शान्त करना:Diet and Planet:Astrology Simplified video,

 ज्योतिष,वास्तु ,एक्यूप्रेशर पॉइंट्स ,हेल्थ , इन सबकी डेली टिप्स के लिए   लिंक को क्लिक  करें :
                     Shree Siddhi Vinayak Jyotish avm Vaastu Paramarsh kendra.
 
Housi Lal Choureyआहार से ग्रह की पीड़ा और दोष शान्त करना:Diet and Planet :
Astrology Simplified Videos:
ग्रह-तारे: click the blog.
http://hchourey.blogspot.in/
ग्रहों के अनुसार आहार करके   ,ग्रहों की पीड़ा और दोष  मे कमी लाई जा सकती है।
---नौ ग्रहों की  अनुसार आहार---आहार से ग्रह की पीड़ा और दोष   शान्त करना।
सूर्य ग्रह :आरोग्यता,आत्मा,आत्मविश्वास,आँखें व हड्डियों
कुंडली मे सूर्य प्रथम,नवम व दशम भाव का कारक 
 आहार---गेहूं,दलिया,आम,,केसर,तेजपत्ता,,खजूर,छुहारा,किशमिश  घी 
 गुड़, गेंहू, जौ, खुमानी, मुनक्का, गन्ना, , मक्का
चन्द्र ग्रह :मन ,जल :  कारक -चतुर्थ भाव :
आहार---चावल,सफ़ेद तिल,अखरोट,मिश्री ,दही,मिठाईया:
गन्ना, शक्कर, दूध , दूध से बने पदार्थ, नमक, आइसक्रीम 
 मंगल  ग्रह    : ऊर्जा,रक्त,पराक्रम , उत्साह,
तीसरे व छठे भाव का कारक  
आहार---मसूर की दाल,,गाजर,चौलाई,चुकंदर,टमाटर चाय,अनार,कॉफी,लाल सरसो:गुड़,  अनार, चाय, कॉफी, जौ ,शहद,, गाजर, मोठ, लाल चौलाई, चुकंदर, लौंग, मसूर, लाल मक्का

बुध : बुद्धिमत्ता: चतुर्थ व दशम भाव का कारक :
आहार---पेठा,मेथी,मटर,मोठ,अमरूद,हरी सब्जिया,हरा आंवला,  इलायची, मेथी, लौकी, बथुआ, , सरसों, हरी दूब , हरी मूंग ,मेथी अंकुरित,बथुआ, पालक,, इलायची , मटर,ज्वार,  हरी दालें, मूंग, हरी सब्जियां ,
 गुरु ग्रह गुर्दो,लीवर
 दूसरे,पांचवे,नवे,तथा एकादश भाव भाव का कारकहैं | 
आहार---पपीता,मेथी दाना,शकरकंद,अदरक,चना, चना दाल, मक्का, केला, हल्दी, सैंधा नमक, पीले दालें ,फलों सीताफल,संतरा,बेसन,

शुक्र  ग्रह :जल तत्व ,खट्टा रस , सुगंधप्रिय
 सप्तम भाव का कारक  हैं.
आहार---खीर,कमलगट्टे,मखाने दालचीनी,भीगे बादाम,सिंघाड़ा,अचार ,खट्टे फल ,त्रिफला,  कमलगट्टा, मिश्री, मूली ,सफेद शलजम,भीगे बादाम, गेंहू, सफेद मिर्च, अखरोट, नारियल, चौलाई

शनि  ग्रह: वायु तत्व ,कसैले रस ,
कमर,पैर व स्नायु मण्डल :
छठे,आठवे व बारहवे भाव का कारक हैं | 
आहार---काली उड़द,कुलथी,सरसों या तिल का तेल,काली मिर्च,मंडवे का आटा,काले अंगूर,मुनक्का,गुलकंद,अलसी,जामुन,  मुनक्का, तिल, कालीमिर्च, मूंगफली का तेल, आचार, लौंग, तेजपत्ता, काले नमक.
राहु और केतु: उड़द, तिल ,सरसों का प्रयोग
 सभी ग्रहों की शांति के  लिये ऊपर बताये   गये   आहार का सेवन ,ग्रह अनुसार करना चाहिए। ग्रह की पीड़ा या दोष भी शान्त होते  है  तथा ग्रह हमारे लिए शुभ फल देते  है।







1 comment:

Blogger said...

New Diet Taps into Innovative Plan to Help Dieters Lose 15 Pounds in Only 21 Days!